आप इस जगत की ज्योति है

आपको अपना मुल्य वचन में समझना ही चाहिए। आप जगत की ज्योति है; आप एक नगर है जो पहाड़ पर बसा हुआ है(मत्ती5:14); इसका तात्पर्य यह है कि आप इस जगत का समाधान है। बाइबल बताती है, “देख, पृथ्वी पर तो अन्धियारा और राज्य राज्य के लोगों पर घोर अन्धकार छाया हुआ है;…”। इस पृथ्वी पर की घोर अंधकार यह संकेत देती है कि यह समय आपके उठने का और चमकने का है। रोमियो 8:9 कहता है,“क्योंकि सृष्टि बड़ी आशाभरी दृष्टि से परमेश्वरव के पुत्रों के प्रगट होने की बाट जोह रही है।” यह संसार आपके प्रकटीकरण का इन्तेजार कर रही है कि आप उसके महिमा को इस पृथ्वी पर प्रकट करें और उन्हे भ्रष्टता और शैतान के सड़वाहट से बजाए।

भजन संहिता 74ः20 कहता है कि इस पृथ्वी के अंधकार के स्थान अत्याचारो के घरों से भरपूर हैं। यह आत्मिक अंधकार और बुराई के बारें मे बाता रहा है, जो इस संसार के उपर हावी है। लेकिन जैसे ही आप आते है, इस संसार का अंधकार और बुराई गायब हो जाता है। जब आप उन लोगो के संसार में ज्योति के सुसमाचार के साथ आते है जिनको बचाया नहीं गया है, तो उनके जीवन में उद्धार आ जाता है।


आपकी ज्योति इस संसार को सुंदरता, मार्गदर्शन और लक्ष्य देती है। आप इस अंधकारमय संसार में एक ज्योति है। यीशु ने कहा “…जैसे पिता ने मुझे भेजा है, वैसे ही मैं भी तुम्हें भेजता हूँ”(यूहन्ना20ः21)। वह इस संसार में हमारे जीवन को एक अर्थ देने आया और फिर उसने हमें ज्योति के समान महिमा, सिद्धता और अर्थ दुसरे के जीवन में लाने के लिए भेजा।

यही आपकी सेवा है। यही आपका जीवन है। 1पतरस 2:9 कहता है, पर तुम एक चुना हुआ वंश, और राज-पदधारी याजकों का समाज, और पवित्र लोग, और (परमेश्वर की) निज प्रजा हो, इसलिये कि जिस ने तुम्हें अन्धकार में से अपनी अद्भुत ज्योति में बुलाया है, उसके गुण प्रकट करो।

प्रार्थना और घोषणा

प्रिय पिता, मैं आपकी धार्मिकता, अनुग्रह का सुसमाचार और आपके ज्योति को अपने सेवा और बुलाहट के द्वारा पुरा करता हूँ। मैं अपने संसार में लोगो के जीवन को अर्थ, दिशा सुंदरता,महिमा और उत्कृष्टता प्रदान करता हूँ और उन्हे अंधकार के संसार से छुड़ाकर ज्योति में बदल देता हूँ। यीशु के नाम से, आमीन!

आप इस जगत की ज्योति है

ऊपर के वचन में, आत्मा ने पौलुस प्रेरित के द्वारा लिखते हुए मसीही को संबोधित किया; आज यह वचन आपसे बाते कर रहा है, और वह आपको परिभाषित करने के लिए शब्दो में किसी भी प्रकार की कंजूसी नही कर रहा है। वह कहता है कि आप ज्योति है! आप परमेश्वर से जन्मे है, उसके वचन से, जो कि ज्योति है, तो आप भी ज्योति की संतान है।


आत्मा इफिसियो 5:8 में इसी विचार को दोहराता है। वचन बताता है, “क्योंकि तुम तो पहले अन्धकार थे परन्तु अब प्रभु में ज्योति हो, अतः ज्योति की सन्तान के समान चलो।” यह कितना रोचक है! यहा वचन यह नही कह रहा है कि आपक अंधकार में थे; यह कहता है कि आप अंधकार थे, किंतु, अब आप ज्योति है। इसका अर्थ है कि आप भी निर्भय होकर यीशु के समान घोषणा कर सकते है, “जब तक मैं इस संसार में हूँ, मैं इस संसार की ज्योति हूँ!”

ज्योति का काम प्रकाश देना है। आपके जीवन का भी एक बुलाहट है कि आप अपने जीवन से इस संसार को प्रकाशित करे। फिलिप्पियों 2:15 कहता है, “ ताकि तुम निर्दोष और भोले होकर टेढ़े और हठीले लोगों के बीच परमेश्वर के निष्कलंक सन्तान बने रहो, जिनके बीच में तुम जीवन का वचन लिए हुए जगत में जलते दीपकों के समान दिखाई देते हो।” ज्योति दिशा देती है, यह बताती है की लोगो को किस ओर जाना चाहिए। आप ही है जिसको विश्व को दिखाना है कि इस संसार में अंधकार के बावजूद कैसे जीना है, क्या करना है, और कैसे सफल होना है,


इस विश्व मे कितना अंधकार है इससे कोई फ्रक नही पड़ता है, आप वह आशा और समाधान है जिसकी जरूरत इस संसार को है। इस संसार की समष्या आपकी ज्योति करने और परमेश्वर की महिमा को प्रकट करने के अवसर है।


हरेक दिन उसकी प्रकाश के चेतना मे जीए!

प्रार्थना और घोषणा

मैं ज्योति की संतान हूँ। इसलिए मैं इस संसार को महिमा और सदगुणो के साथ प्रकाशित करते हुए जीता हूँ। मेरे द्वारा लोग महिमामय सुसमाचार को सुनते है और उसकी ज्योति को ग्रहण करते है। मैं इस संसार मे परमेश्वर की ज्योति हूँ। यीशु के नाम से, आमीन!

YOU ARE THE LIGHT OF THE WORLD

In the verse above, the Spirit, writing through the Apostle Paul, was addressing Christians; He’s talking to you, and He minces no words in describing you. He says you’re light! You’re born of God, of His Word, which is light, so you’re the offspring of Light.

The Spirit expresses the same thought in Ephesians 5:8. It reads, “For you were once darkness, but now you are light in the Lord. Live as children of light”(NIV). How interesting this is! It doesn’t say you were in the darkness; it says you were darkness, but now, you’re light. This means you can also declare with audacity, as Jesus did, “As long as I’m in the world, I’m the light of the world!”

Light illuminates. You have a calling in this life to bring illumination to your world. Philippians 2:15 says, “That ye may be blameless and harmless, the son of God, without rebuke, in the midst of a crooked and perverse nation, among whom ye shine as lights in the world.” Light gives leadership and direction; it describes. You’re the one to show the world how to live, what to do, and how to be successful, irrespective of the darkness in the world.

It makes no difference the darkness and problems in the world, you’re the hope and the solution that the world needs. The problems and hardship in the world today are your opportunities to shine and manifest the glory of God.

Live with this consciousness every day.

PRAYER & CONFESSION

I am a child of light, a child of the day! Therefore, I shine forth, illuminating my world with His glory and virtue. Through me, unsaved hear and receive the light of the glorious gospel and are transferred from darkness into God’s marvelous light, In Jesus Name, Amen!

आप इस जगत की ज्योति है

आपको अपना मुल्य वचन में समझना ही चाहिए। आप जगत की ज्योति है; आप एक नगर है जो पहाड़ पर बसा हुआ है(मत्ती5:14); इसका तात्पर्य यह है कि आप इस जगत का समाधान है। बाइबल बताती है, “देख, पृथ्वी पर तो अन्धियारा और राज्य राज्य के लोगों पर घोर अन्धकार छाया हुआ है;…”। इस पृथ्वी पर की घोर अंधकार यह संकेत देती है कि यह समय आपके उठने का और चमकने का है। रोमियो 8:9 कहता है,“क्योंकि सृष्टि बड़ी आशाभरी दृष्टि से परमेश्वरव के पुत्रों के प्रगट होने की बाट जोह रही है।” यह संसार आपके प्रकटीकरण का इन्तेजार कर रही है कि आप उसके महिमा को इस पृथ्वी पर प्रकट करें और उन्हे भ्रष्टता और शैतान के सड़वाहट से बजाए।

भजन संहिता 74ः20 कहता है कि इस पृथ्वी के अंधकार के स्थान अत्याचारो के घरों से भरपूर हैं। यह आत्मिक अंधकार और बुराई के बारें मे बाता रहा है, जो इस संसार के उपर हावी है। लेकिन जैसे ही आप आते है, इस संसार का अंधकार और बुराई गायब हो जाता है। जब आप उन लोगो के संसार में ज्योति के सुसमाचार के साथ आते है जिनको बचाया नहीं गया है, तो उनके जीवन में उद्धार आ जाता है।


आपकी ज्योति इस संसार को सुंदरता, मार्गदर्शन और लक्ष्य देती है। आप इस अंधकारमय संसार में एक ज्योति है। यीशु ने कहा “…जैसे पिता ने मुझे भेजा है, वैसे ही मैं भी तुम्हें भेजता हूँ”(यूहन्ना20ः21)। वह इस संसार में हमारे जीवन को एक अर्थ देने आया और फिर उसने हमें ज्योति के समान महिमा, सिद्धता और अर्थ दुसरे के जीवन में लाने के लिए भेजा।

यही आपकी सेवा है। यही आपका जीवन है। 1पतरस 2:9 कहता है, पर तुम एक चुना हुआ वंश, और राज-पदधारी याजकों का समाज, और पवित्र लोग, और (परमेश्वर की) निज प्रजा हो, इसलिये कि जिस ने तुम्हें अन्धकार में से अपनी अद्भुत ज्योति में बुलाया है, उसके गुण प्रकट करो।

प्रार्थना और घोषणा

प्रिय पिता, मैं आपकी धार्मिकता, अनुग्रह का सुसमाचार और आपके ज्योति को अपने सेवा और बुलाहट के द्वारा पुरा करता हूँ। मैं अपने संसार में लोगो के जीवन को अर्थ, दिशा सुंदरता,महिमा और उत्कृष्टता प्रदान करता हूँ और उन्हे अंधकार के संसार से छुड़ाकर ज्योति में बदल देता हूँ। यीशु के नाम से, आमीन!

आप इस जगत की ज्योति है

ऊपर के वचन में, आत्मा ने पौलुस प्रेरित के द्वारा लिखते हुए मसीही को संबोधित किया; आज यह वचन आपसे बाते कर रहा है, और वह आपको परिभाषित करने के लिए शब्दो में किसी भी प्रकार की कंजूसी नही कर रहा है। वह कहता है कि आप ज्योति है! आप परमेश्वर से जन्मे है, उसके वचन से, जो कि ज्योति है, तो आप भी ज्योति की संतान है।


आत्मा इफिसियो 5:8 में इसी विचार को दोहराता है। वचन बताता है, “क्योंकि तुम तो पहले अन्धकार थे परन्तु अब प्रभु में ज्योति हो, अतः ज्योति की सन्तान के समान चलो।” यह कितना रोचक है! यहा वचन यह नही कह रहा है कि आपक अंधकार में थे; यह कहता है कि आप अंधकार थे, किंतु, अब आप ज्योति है। इसका अर्थ है कि आप भी निर्भय होकर यीशु के समान घोषणा कर सकते है, “जब तक मैं इस संसार में हूँ, मैं इस संसार की ज्योति हूँ!”

ज्योति का काम प्रकाश देना है। आपके जीवन का भी एक बुलाहट है कि आप अपने जीवन से इस संसार को प्रकाशित करे। फिलिप्पियों 2:15 कहता है, “ ताकि तुम निर्दोष और भोले होकर टेढ़े और हठीले लोगों के बीच परमेश्वर के निष्कलंक सन्तान बने रहो, जिनके बीच में तुम जीवन का वचन लिए हुए जगत में जलते दीपकों के समान दिखाई देते हो।” ज्योति दिशा देती है, यह बताती है की लोगो को किस ओर जाना चाहिए। आप ही है जिसको विश्व को दिखाना है कि इस संसार में अंधकार के बावजूद कैसे जीना है, क्या करना है, और कैसे सफल होना है,


इस विश्व मे कितना अंधकार है इससे कोई फ्रक नही पड़ता है, आप वह आशा और समाधान है जिसकी जरूरत इस संसार को है। इस संसार की समष्या आपकी ज्योति करने और परमेश्वर की महिमा को प्रकट करने के अवसर है।


हरेक दिन उसकी प्रकाश के चेतना मे जीए!

प्रार्थना और घोषणा

मैं ज्योति की संतान हूँ। इसलिए मैं इस संसार को महिमा और सदगुणो के साथ प्रकाशित करते हुए जीता हूँ। मेरे द्वारा लोग महिमामय सुसमाचार को सुनते है और उसकी ज्योति को ग्रहण करते है। मैं इस संसार मे परमेश्वर की ज्योति हूँ। यीशु के नाम से, आमीन!

YOU ARE THE LIGHT OF THE WORLD

In the verse above, the Spirit, writing through the Apostle Paul, was addressing Christians; He’s talking to you, and He minces no words in describing you. He says you’re light! You’re born of God, of His Word, which is light, so you’re the offspring of Light.

The Spirit expresses the same thought in Ephesians 5:8. It reads, “For you were once darkness, but now you are light in the Lord. Live as children of light”(NIV). How interesting this is! It doesn’t say you were in the darkness; it says you were darkness, but now, you’re light. This means you can also declare with audacity, as Jesus did, “As long as I’m in the world, I’m the light of the world!”

Light illuminates. You have a calling in this life to bring illumination to your world. Philippians 2:15 says, “That ye may be blameless and harmless, the son of God, without rebuke, in the midst of a crooked and perverse nation, among whom ye shine as lights in the world.” Light gives leadership and direction; it describes. You’re the one to show the world how to live, what to do, and how to be successful, irrespective of the darkness in the world.

It makes no difference the darkness and problems in the world, you’re the hope and the solution that the world needs. The problems and hardship in the world today are your opportunities to shine and manifest the glory of God.

Live with this consciousness every day.

PRAYER & CONFESSION

I am a child of light, a child of the day! Therefore, I shine forth, illuminating my world with His glory and virtue. Through me, unsaved hear and receive the light of the glorious gospel and are transferred from darkness into God’s marvelous light, In Jesus Name, Amen!