THE FIRE OF CLEANSING

Fire is very significant in Scripture. In some places, it was used to symbolize the Spirit of God and the character in which He operated or manifested Himself. When God revealed Himself to Moses, it was in the burning bush (Exodus 3:3-5). When the Holy Ghost came in Acts 2:1-4 as Jesus had promised His disciples, the Scriptures record that cloven tongues like as of fire appeared unto them and sat upon each of them, and they were filled with the Holy Ghost.

Hence we read the words of John the Baptist in our opening verse above, where he talked about the baptism of the Holy Ghost and fire. Now, many have confused John’s statement to mean that both the power of the Holy Ghost, and the fire of the Holy Ghost are synonymous, but they aren’t. When John the Baptist said Jesus shall baptize with the Holy Ghost, and with fire, that “fire” meant judgment

The fire of the Holy Ghost is about cleansing; it’s called, “The fire of Judgment” or “The fire of cleansing.” The Bible says, “…he will throughly purge his floor, and gather his wheat into the garner; but he will burn up the chaff with unquenchable fire” (Matthew 3:12). That’s judgment! It’s the same thing we see in Malachi 3:2-3: “But who may abide the day of his coming? and who shall stand when he appeareth ? for he is like a refiner’s fire, and like fullers’ soap: And he shall sit as a refiner and purifier of silver: and he shall purify the sons of Levi, and purge them as gold and silver, that they may offer unto the LORD an offering in righteousness.”

Thus, Holy Ghost fire is the fire of purification; it takes away the unclean things from your life; it burns them up, that there be no impurities in you; that fire purifies you, removes everything that’s not of God. Thus, you’re sanctified for the Lord’s use; you’re His vessel unto honour, to bring Him glory, and establish His will in the earth. Hallelujah

PRAYER & DECLARATION

I’m washed, sanctified, justified, in the Name of the Lord Jesus Christ, and by the Spirit of our God ! There’s no uncleanness in me, for the fire of the Holy Ghost purifies my heart from all filthiness. I’ve become the radiance of God’s glory, and the expression of His righteousness. Hallelujah !

आग का पवित्रीकरण

वचन में आग बहुत ही अर्थपूर्ण है। कुछ जगहों पर, परमेश्वर की आत्मा और उसके चरित्र को जिस प्रकार वह अपने आपको प्रकट करता है, र्दशाने के लिए आग का प्रयोग किया गया है। जब उसने अपने आपको मुसा के ऊपर प्रकट किया तो जलते हुए झारी के रूप में प्रकट किया(निर्गमन 3ः3-5)। जब प्रेरितों के कार्य 2ः1-4 में पवित्र आत्मा आया तो वचन बताता है कि सबके ऊपर जीभ सी आग आ गयी और वे पवित्र आत्मा से भर गए।


इसलिये हम अपने शुरूआत के वचन में यूहन्ना को पढ़ते है, जहाँ वह पवित्र आत्मा और आग के विषय में बात करता है। अब बहुत सारे लोग ने यूहन्ना के इस बयान से लोगो को यह बतलाकर चकरा दिया है कि पवित्र आत्मा की सामथ्र्य और आग का बपतिस्मा एक है, लेकिन ऐसा नहीं है। जब यूहन्ना ने यह कहा कि यीशु पवित्र आत्मा और आग से बपतिस्मा देगा, तो आग अर्थ यहाँ न्याय होता है।


पवित्र आत्मा की आग शुद्धिकरण के लिए है; इसे न्याय की आग या फिर शुद्धिकरण की आग भी कहते है। बाइबल बताती है कि “…वह अपना खलिहान अच्छी रीति से साफ करेगा, और अपने गेहूँ को तो खत्ते में इकट्ठा करेगा, परन्तु भूसी को उस आग में जलाएगा जो बुझने की नहीं”(मत्ती 3ः12)। यह न्याय है ! यही बात हम मलाकी 3ः2-3 में भी देखते है “परन्तु उसके आने के दिन को कौन सह सकेगा, और जब वह दिखाई दे, तब कौन खड़ा रह सकेगा? क्योंकि वह सोनार की आग और धोगी के साबुन के समान है। वह रूपे का तानेवाला और शुद्ध करनेवाला बनेगा, और लेवियों को शुद्ध करेगा और उनको सोने रूपे के सामन निर्मल करेगा, तब वे यहोवा की भेंट धर्म से चढ़ाएँगे।”


इसलिए पवित्र आत्मा की आग, शुद्धिकरण की आग है; यह आपके जीवन से हरेक अपवित्र चिजें निकाल देती है; यह उनको जला देती है ताकि आपके जीवन में कुछ भी अशुद्ध चिजें न रहे; उसकी आत्मा आपको शुद्ध करती है। यह आपके जीवन से वह हरेक चिजे निकाल देती है जो परमेश्वर की ओर से नहीं है। फिर आप प्रभु के कार्य के लिए अलग और शुद्ध किए जाते है; आप उसके ऐसे बर्तन बन जाते है जो उसको महिमा दे, और उसकी ईच्छा को इस पृथ्वी पर पुरी करे।

प्रार्थना और घोषणा

मुझे यीशु के नाम से और परमेश्वर की आत्मा से धोया गया है, शुद्ध किया गया है ! मुझ में कोई अपवित्रता नहीं क्योंकि पवित्र आत्मा नें मेरी गंदगी को मेरे हृदय से साफ कर दिया है। मैं परमेश्वर की महिमा का ज्योति और उसकी धार्मिकता का प्रकटीकरण बन गया हूँ। आमीन !