विश्वास सामर्थ्यशाली कुंजी है

बाइबल अब्राहम को विश्वास का पिता बुलाती है। परमेश्वर ने अब्राहम को एक अनजान जगह जाने को कहा जो उसका घर बनने पर था, और अब्राहम बिना आगे के निर्देश के निकल पड़ा। उसने परमेश्वर से प्रश्न नही पुछे; उसने केवल निर्देशो का पालन किया।


इब्रानियों 11:9 कहता है, “विश्वास ही से उस ने प्रतिज्ञा किए हुए देश में जैसे पराए देश में परदेशी रह कर इसहाक और याकूब समेत जो उसके साथ उसी प्रतिज्ञा के वारिस थे, तम्बूओं में वास किया।” दूसरे शब्दों में, जब भी वह या़त्रा करता था, जहाँ भी वह अपना तंबू गाड़ता था या किसी भी समय अपने परिवार के साथ रहता था, वह परमेश्वर के अनुसार विश्वास मे जीता था।


एक अन्य अवसर पर, परमेश्वर ने उससे कहा, “…मैंने तुझे जातियों के समूह का मूलपिता ठहरा दिया है।”(उत्पत्ति17:5) वह संतान रहित था, और उसके केवल नौकर ही थे तब भी अब्राहम ने परमेश्वर के वचन पर विश्वास किया। प्रभु ने जो भी कहा था, विश्वास से उसने उसको स्वीकारा और उसकी वास्तविकता में चला गया।


गलातियो 3:7 हमें बताता है कि जो भी विश्वास से है, वे सभी अब्राहम के संतान है; जिसका मतलब यह होता है कि हमें उसका अनुसरण करना है। इसलिए हमारा जीवन भी विश्वास का जीवन है; विश्वास एक मुद्रा के समान है, जिसके द्वारा हम राज्य में कार्य करते है। हम विश्वास के वंश से विश्वास के प्राणी है। बाइबल बताती है, “क्योंकि हम रूप को देखकर नहीं, पर विश्वास से चलते हैं।” (2कुरिन्थियों 5:7)

विश्वास परमेश्वर के प्रतिज्ञायों के अनुसार जीना है, यह भरोसा करते हुए कि जो वह कहता है कि वह है, वह है, उसने वह कर दिया है, जो उसने कहा था, और उसने आपको वह दे दिया है, जो उसने कहा कि उसने आपको दे दिया है। विश्वास, बाई या दाई ओर बहने से इनकार करते हुए, परमेश्वर के वचन पर टेक लगाना है।

प्रार्थना और घोषणा

प्रिय पिता, मेरे विश्वास को प्रदर्शित करने और हमारे महिमित राज्य के सिद्धांतों के द्वारा जीने के अवसर के लिए धन्यवाद। मैं विश्वास का जीवन जीता हूँ, और जैसे जैसे मैं वचन पर कार्य करता हूँ, मेरा विश्वास निरंतर सफलता और विजय के लिए मजबूत और सक्रिय है। मेरा विश्वास जीवित है और काम कर रहा है, यीशु के नाम से, आमीन!

विश्वास सामर्थ्यशाली कुंजी है

बाइबल अब्राहम को विश्वास का पिता बुलाती है। परमेश्वर ने अब्राहम को एक अनजान जगह जाने को कहा जो उसका घर बनने पर था, और अब्राहम बिना आगे के निर्देश के निकल पड़ा। उसने परमेश्वर से प्रश्न नही पुछे; उसने केवल निर्देशो का पालन किया।


इब्रानियों 11:9 कहता है, “विश्वास ही से उस ने प्रतिज्ञा किए हुए देश में जैसे पराए देश में परदेशी रह कर इसहाक और याकूब समेत जो उसके साथ उसी प्रतिज्ञा के वारिस थे, तम्बूओं में वास किया।” दूसरे शब्दों में, जब भी वह या़त्रा करता था, जहाँ भी वह अपना तंबू गाड़ता था या किसी भी समय अपने परिवार के साथ रहता था, वह परमेश्वर के अनुसार विश्वास मे जीता था।


एक अन्य अवसर पर, परमेश्वर ने उससे कहा, “…मैंने तुझे जातियों के समूह का मूलपिता ठहरा दिया है।”(उत्पत्ति17:5) वह संतान रहित था, और उसके केवल नौकर ही थे तब भी अब्राहम ने परमेश्वर के वचन पर विश्वास किया। प्रभु ने जो भी कहा था, विश्वास से उसने उसको स्वीकारा और उसकी वास्तविकता में चला गया।


गलातियो 3:7 हमें बताता है कि जो भी विश्वास से है, वे सभी अब्राहम के संतान है; जिसका मतलब यह होता है कि हमें उसका अनुसरण करना है। इसलिए हमारा जीवन भी विश्वास का जीवन है; विश्वास एक मुद्रा के समान है, जिसके द्वारा हम राज्य में कार्य करते है। हम विश्वास के वंश से विश्वास के प्राणी है। बाइबल बताती है, “क्योंकि हम रूप को देखकर नहीं, पर विश्वास से चलते हैं।” (2कुरिन्थियों 5:7)

विश्वास परमेश्वर के प्रतिज्ञायों के अनुसार जीना है, यह भरोसा करते हुए कि जो वह कहता है कि वह है, वह है, उसने वह कर दिया है, जो उसने कहा था, और उसने आपको वह दे दिया है, जो उसने कहा कि उसने आपको दे दिया है। विश्वास, बाई या दाई ओर बहने से इनकार करते हुए, परमेश्वर के वचन पर टेक लगाना है।

प्रार्थना और घोषणा

प्रिय पिता, मेरे विश्वास को प्रदर्शित करने और हमारे महिमित राज्य के सिद्धांतों के द्वारा जीने के अवसर के लिए धन्यवाद। मैं विश्वास का जीवन जीता हूँ, और जैसे जैसे मैं वचन पर कार्य करता हूँ, मेरा विश्वास निरंतर सफलता और विजय के लिए मजबूत और सक्रिय है। मेरा विश्वास जीवित है और काम कर रहा है, यीशु के नाम से, आमीन!