DONATE

स्वर्गदुत आपकी सेवा में!

  • October 7, 2020
  • 4 Comments
मत्ती 26:52-53

"तब यीशु ने उससे कहा, ”अपनी तलवार म्यान में रख ले क्योंकि जो तलवार चलाते हैं वे सब तलवार से नष्ट किए जाएँगे। क्या तू नहीं जानता कि मैं अपने पिता से विनती कर सकता हूँ, और वह स्वर्गदूतों की बारह पलटन से अधिक मेरे पास अभी उपस्थित कर देगा?"

परमेश्वर के जन होने के नाते आपको जानना है कि उसने आपके सेवा के लिए स्वर्गदूत ठहराए है। वे आपके सेवा में हाजिर हैः “क्या वे सब सेवा टहल करनेवाली आत्माएँ नहीं, जो उद्धार पानेवालों के लिये सेवा करने को भेजी जाती है?”- इब्रानियों 1:14। जब भी आप यीशु के नाम से आदेश देते है तो स्वर्गदूत उन आदेशो को पुरा करने में लग जाते है। आप क्या देखना चाहता है? स्वर्गदुतों को आदेश दे!

जरा इब्रानियों 1:14 को ध्यान से पढ़ें; यहाँ लिखा है कि स्वर्गदूत “…सेवा टहल करनेवाली आत्माएँ…जो उद्धार पानेवालों के लिये सेवा करने को भेजी जाती है?” इसका मतलब यह है कि वे आपकी सेवा करती है। मगर यह यीशु के अधिकार से होता है न की मनुष्य के किसी विशेष कार्य से। यीशु ने आपको अपना विशेष अधिकार दे रखा है ताकी आप उसके नाम का प्रयोग कर सकें। तो इसका मतलब यह होता की जब भी आप उसके नाम का प्रयोग करते है तो यीशु के अधिकार का प्रयोग करते है ना की किसी मानवीय अधिकार की!

उपर लिखें गए वचन को वापस पढ़ें। पतरस अपनी तलवार से लड़ना चाहता था, मगर यीशु ने उसे रोका और कहाः “क्या तू नहीं जानता कि मैं अपने पिता से विनती कर सकता हूँ, और वह स्वर्गदूतों की बारह पलटन से अधिक मेरे पास अभी उपस्थित कर देगा?”। यीशु यह अच्छी तरीके से जानता था की अगर वह स्वर्गदुतों को आज्ञा देगा तो उनको आनी पड़ेगी! यह हम सब लोगो के लिए है। यीशु ने हमे इस प्रकार की सेवा का प्रकाशन तब दिया जब उसने कहाः“…ये बातें जो मैं तुम से कहता हूँ, अपनी ओर से नहीं कहता, परन्तु पिता मुझ में रहकर अपने काम करता है।”-यूहन्ना 14:10।
स्वर्गदूत परमेश्वर के वचन को मानती है(भजनः103:20)। जब तक आप परमेश्वर के इच्छा के सीमा के अंदर कार्य कर रहे है, स्वर्गदूत हमेशा आपके सेवा के लिए उपलब्ध रहेगा; ये प्राणी आपके सेवा के लिए और आपके साथ सेवा करने के लिए आंनदित रहते है।


इसलिए आज परमेश्वर के इच्छा को जानते हुए स्वर्गदूतों को आज्ञा दे की वे आपकी सेवा करें! अगर आप किसी भारी संकट में परते है तो उस समय आप इन प्राणीयों को यह जानते हुए आज्ञा दे सकते है कि ये आपकी सेवा के लिए है।

प्रार्थना और घोषणा

प्रभु आपको धन्यवाद की आपने मेरे आसपास अपने दुतों को मेरी सेवा के लिए रख रखा है। मैं घोषणा करता हूँ की मैं किसी भी पल अकेला नहीं क्योंकि मेरे परमेश्वर ने मेरे लिए अपने दुतों को ठहराया है कि मुझे कुछ हानी ना हो! मैं जो शब्द बोलता हूँ वे मेरे पास खाली नही लौटता क्योकि स्वर्ग की सेना मेरे सेवा में दिन-रात खड़े रहते है। यीशु के नाम से…आमीन!

Comments (4)

4 thoughts on “स्वर्गदुत आपकी सेवा में!”

  1. Praise the Lord
    Thank you Jesus for protecting my family surrounded by angels.I believe and receive you are always with my family. Amen

  2. Halelluya🙌🙌🙌🙌🙌🙌 thank you father for wonderful teaching ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave Your Comment