DONATE

उसमें अपने उदेश्य को जानें

  • June 13, 2020
  • 2 Comments
युहन्ना 18:37

"मैनें इसलिये जन्म लिया और इसलिये संसार में आया हूँ कि सत्य की गवाही दूँ।"

कई लोग सवाल करते है कि “क्या इस पृथ्वी पर परमेश्वर की इच्छा जानना संभव है?“ इसका जवाब है… जी हाँ! परमेश्वर बहुत ही अच्छा संवादक है।अगर आप परमेश्वर से अपने जीवन के विशेष मकसद् पुछगें तो वह ऐसे अंदाज में आपसे बाते करेगा जिसको आप समझ सके। वह आपकी मदद् करेगा उस लक्ष्य तक जाने के लिए जिसके लिए उसने आपको बुलाया है।आपको बस यह कहने की जरूरत है कि “प्रभु मेरी आत्मा की अगुवाई करें। मैं वह सब कुछ बनना चाहता हूँ जिसके लिए आपने मुझे बुलाया है“।और फिर जैसे जैसे वह आपकी अगुवाई करता है। अपनी आत्मा के अगुवाई मे चले।

कभी कभी परमेश्वर की आत्मा आपको विशेष चिज के लिए अगुवाई करेगी और कभी किसी चिज के लिए मना।आपके आत्मा में यह उसके अगुवाई का संकेत है। जब परमेश्वर आपके आत्मा में किसी चिज के लिए आपको मना करता है तो इसका मतलब यह नही है कि वह चिज गलत है मगर ऐसा हो सकता है कि अभी वह चिजे करने का समय नहीं है। फिर भी अगर आप उसकी मानते है तो आप हमेशा उसकी उतम ईच्छा में चलेगें। ऐसा करने से आप अपने जीवन के हरेक स्तर पर सफल होगें।

हो सकता कि आप अपने व्यवसाय के लिए या फिर निवेश के लिए नए मौको को खोज रहे होगे। मैं आपको उत्साहित करूंगा कि आप उसके आत्मा की सुने। वह आपकी सफल अगुवाई करेगा और आप अपने निवेश और व्यवसाय में सफल होगें। मैं अपनी कलीसिया में हमेशा सिखाता हूँ कि कोई भी काम जो लोगो के लिए सही हो और परमेश्वर को महिमा देता हो बिना समय गवाए कर लेना चाहिए।मगर यह बहुत ही समान्य श्रेणी में आती है।कुछ बातें आपके जीवन में आपके लिए बहुुत निजी होगी और यह आपके व्यक्तित्व के लिए विशेष बाते होगी। जिसका मतलब यह होता है कि होसकता है कि कोइ कार्य लोगो के लिए सही हो और परमेश्वर को भी महिमा मिलता हो मगर परमेश्वर नही चाहता कि आप अभी उस कार्य को करें। यही कारण है की यह आपके लिए बेहद जरूरी है कि आप उसमें अपने जीवन के उदेश्य को खोजेता किजो विशेष दिशा और लक्ष्य उसने आपके लिए रखी है उसमें आप चलने लगें । इसलिए तो हम परमेश्वर के वचन हरेक दिन सिखते है और पवित्र आत्मा के अगुवाई के प्रभाव को अपने जीवन में आने देते है।आप जितना ज्यादा उसके अवाज को अपने आत्मा में पहचानेगें, वचन समझेंगे और उसको प्रयोग में लाऐंगे उतना ही उसकी अवाज आपके आत्मा में साफ होती जाऐगी। ऐसा करने से आप कभी भी इस उलझन में नही पड़ेगें कि अब आपको क्या करना चाहिए या फिर कहा जाना चाहिए। आपकी मंजील हमेशा आपको साफ दिखेगी क्योंकि आपको ले जाने वाला आपका परमेश्वर होगा। आप प्रत्येक दिन उसकी ईच्छा का प्रकाशन बन जाऐगें और सफल जीवन जीएगें।

Comments (2)

2 thoughts on “उसमें अपने उदेश्य को जानें”

  1. Yess pastor ji humne apne jiwan me es chij ko dekha h ki parmeswar humari aatma me hokar bate karta h yadi hum kuchh glti karne lagte h to yek aawaj aati h (ye sahi nhi h bilkul v sahi nhi h) or agr kr lete h to atma me lgta h ki yesa nhi hona tha and thank you so much pastor ji 🙏🙏🙏🙏👌achhi bato ka pakasn dene ke liye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave Your Comment